Best Dentist In Purnia Bihar – Dr. Mayank Jha

Dr. Mayank Jha is one of the best Dentist in Purnia, Bihar. He graduated from PMNM Dental College, Bagalkot under RGUHS, Bangalore. Dr. Mayank did his Master-MDS ( Prosthodontics and Implantology) from Himachal Dental College, Sunder Nagar (HP). Mayank Jha was an ex Lecturer at Desh Bhagat Dental College, Mandi Gobindgarh & is currently running a private dental clinic in Purnia, and is a consultant to many dental clinics in Siliguri, Kishanganj, and the Kosi-Seemanchal area. He is a life member of INDIAN PROSTHODONTIC SOCIETY and INDIAN DENTAL ASSOCIATION. He has rich experience in Implantology & keeps himself updated to provide the best treatment to his patients.

Dr Mayank Jha runs his private Dental Clinic by the name of 32 Pearls Multispeciality Dental Clinic & Implant Centre. It is one of the top dental clinics in Purnia, Bihar established in the year 2018. They offer a wide and full range of treatments starting from child dentistry to complete family dental solutions. From a comprehensive approach to diagnosis and modern equipment and tools for treatment, They cover basic and critical categories of dentistry. With the expert supervision of a reputed and trusted dental specialist in this region, Dr. Mayank Jha has substantial experience in providing compassionate care to your entire family.

About 32 Pearls Multispeciality Dental Clinic & Implant Centre

32 Pearls Dental clinic is one of the best-advanced clinics in Purnea, Bihar that utilizes the best technologies and equipment with top specialist dentists. The clinic treasures dentists like Dr. Priyadarshni Singh(BDS from Bapuji Dental College, Davengere, Karnataka) Dr. Vidyut Prince(BDS, MDS, Orthodontist) Dr. Kamal Hasan(BDS, MDS, Oral and Maxillofacial Surgeon)  and Dr. Avinash (ENDODONTIST). They are specialists in diagnosing and treating oral diseases.

Contact Details

32 Pearls Multispeciality Dental Clinic & Implant Centre

Brach 1: Purnia Hospital, Near international public school, Line Bazar, Purnia 854301

Branch 2 -C/o Dr Milind Kumar Kursella Market , Line Bazar , Purnia – 854301

Mob- 9805089959 / 7018510959 / 9459419959

Telephone- O6454-295959

Website: www.drmayankjha.com

Email- 32pearlsdentalcenter@gmail.com

Treatments offered at 32 Pearls Dental Clinic & Implant Centre in Purnia

1. Root canal treatment(RCT) by best Dentist in Purnia

The outer portion or Crown of a tooth is a three-layered structure namely – Enamel, Dentin & Pulp. If the tooth decay is limited to the first two layers, it can be corrected with Filling/ Restoration. In case the tooth decay reaches the third layer and causes inflammation or infection of the pulp, an RCT or Endodontic Treatment is needed.

2. Restoration/fillings 

32 Pearls Multispeciality Dental Clinic & Implant Centre in Purnia is the permanent solution for tooth Filling & Restoration. Caries/decay of teeth is an infectious disease of the teeth that results in the destruction of the tooth tissue.

3. Smile design/cosmetic dentistry 

Cosmetic dentistry is generally used to refer to any dental work that improves the appearance of teeth, gums, and/or bites. It primarily focuses on improvement in dental aesthetics in color, position, shape, size, alignment, and overall smile appearance. 

4. Orthodontics 

Orthodontic treatment is a way of straightening or moving teeth, to improve the appearance of the teeth and how they work. It can also help to look after the long-term health of your teeth, gums, and jaw joints, by spreading the biting pressure over all your teeth. 

5. Dental Implants 

Dental implants are a lifetime solution for people with missing teeth. We have onboard Implantologists who have extensive experience in dealing with world-class implant systems and surgeries.

Upcoming Project by The Joy Grand Mohali, Punjab

The Joy Grand, an upcoming residential complex is planned by Joy Homes, a private developer in sector 88 Mohali, Punjab. The community provides all the amenities like the clubhouse, shop, swimming pools, parks, indoor games facilities, and many more. 

These facilities help in promoting the healthy living and lifestyle of a human.

The Mohali railway station is about a distance of 5.3kms from The Joy Grand, Mohali. The Mohali Airport is also around 9.5km from the place.

https://eventofindia.com/wp-content/uploads/2022/04/WhatsApp-Video-2022-04-06-at-11.59.48-PM.mp4

Location Advantages:-

  • 7 min drive from Chandigarh
  • Within 5km of the International Airport
  • 2 mins from Infosys IT City
  • 2 mins from the Indian School Of Business
  • 10 mins from Tribune Chowk
  • 10 mins drive from Mohali Cricket Stadium
  • 2 MIN DRIVE FROM IISER Mohali
  • 5-10 MIN DRIVE FROM MAJOR MEDICAL FACILITIES – FORTIS / COSMO / MAX HOSPITAL

The project is planned over a land area of 5.98 acres approx. and has a proposed built-up area of 1,026,500 sqft. approx. The residential complex includes 7 residential blocks out of which 3 blocks have 26-floor levels, 2 blocks have 25-floor levels, 2 blocks have 18-floor levels and 1 block has 19-floor levels and every flat will be in a single lane, and both sides open with scenic natural green view and hill views. The commercial block has 3-floor levels and a basement. The building society has incorporated the system of rainwater harvesting which will help save water and maintain the groundwater table.

Get in Touch: +91 8360771602 Or Mail us: info@thejoygrand.com

Visit www.thejoygrand.com

Top 3 Best Painter Contractor in Chandigarh

Expert recommended Top 3 Painter Service in Mohali, Punjab (Top 3 Best Paint Contractor Company in Chandigarh). Stringent Safety Protocols, Trained Professionals, Enhanced Supervision & Many More. One-Stop Painting Solution For Creating Your Dream Home. Book An Appointment Today! You deserve only the best!

1. Brush Up My Home

Brush Up My Home is a trusted and reliable House Painting Company in Chandigarh Tricity, We have Severed almost 10000+ Plus customers in 5 Years. We do Exterior, Interior, Wood Polish, Texture Paint, Wallpaper Roll, Deco Paint, and Many More services. We Provide Paint Contractors in Chandigarh, Mohali, Panchkula, Kharar, Zirakpur and we also have painters for house painting, office painting, shop paint, Flat paint in Mohali Chandigarh, Zirakpur. We do Polish wooden furniture and doors. We have well trained and qualified Painter in Chandigarh Tricity. You Can Call for any Query regarding painter Service & Water Proofing”

Mob: +91 79826 92656

Address: Brush Up My Home Mukesh – Sector 45B, #1900, Burial, Chandigarh, 160045

Web: https://brush-up-my-home.business.site/

2. Epic Home Service

Epic Home Service is a Professional Team Of Highly Skilled Painters & Decorators – The Finest Quality Of Finish. Professional Team Of Commercial & Domestic Highly Skilled Painters & Decorators. Qualified & Experienced. Free Quotations. Domestic & Commercial. Fully Insured. They have served almost 40000+ Customers in Chandigarh with different services.

Mob: +91 8196 90 9191

Address: SCO 10, LGF, Block-A, Chandigarh Citi Center, Zirakpur, S.A.S. Nagar, Punjab – 140603, INDIA

Web: https://www.epicvila.com/chandigarh/service/painting/

3. Sanjay Paint Contractor

Sanjay Paint Contractor in Chandigarh is one of the leading businesses in the Painting Contractors. Sanjay Paint Contractor is a trustworthy painting business, and it has many years of experience in this industry. The well-known establishment acts as a one-stop destination servicing customers both locally and from other parts of Chandigarh. The company has expertise in both commercial & residential painting services. The team ensures that all of their painting work carries out with the utmost high quality.

Mob: +91 79826 92656

Address: S. C. O. 1130 burail 45b, Chandigarh, CH 160047

Top 3 Best Ac Service Company in Mohali

Expert recommended Top 3 Air Conditioning Services in Mohali, Punjab (Top 3 Best Ac Service Company in Mohali). All of our air conditioning services actually face a rigorous 50-Point Inspection, which includes customer reviews, history, complaints, ratings, satisfaction, trust, cost, and their general excellence. You deserve only the best!

Top 3 Ac Service Company in Mohali

1. Epic Home Service

Epic Home Service is an online-based booking regime that comprises services provided by Electricians, Plumbers, AC Service & Repair, Appliance Repair, Beauticians, and many more.

Taking cognizance of your facilitation, we always entrust our work to a responsible and skilled staff who will redeem all of your problems. Our vision is to enhance the lifestyle of our customers by providing relevant services through easy means at their doorsteps.

Address: SCO 10, LGF, Block-A, Chandigarh Citi Center, Zirakpur, S.A.S. Nagar, Punjab – 140603, INDIA

Mob: +91 8196909191

Website: https://www.epicvila.com/

2. Super Ac Chandigarh

Super Ac Chandigarh is a trustworthy air conditioning business, and it has six years of experience in this industry. The company has well-qualified professionals for its AC service. All their works are completed professionally on time and in full to the highest standards. The team uses the latest technology toll and methods for their work. They provide a comprehensive design, installation, and service of all types of air conditioning systems from all the leading manufacturers. They offer competitive prices for all kinds of AC installation and repair services.

Address: #3125, Sector 45 Chandigarh, 160047 India

Mob: +91 9667 47 4843

Website: https://super-ac.business.site/

3.BANSAL AC SERVICES AND REPAIR

Bansal AC Services and Repair is your local air conditioning business in Chandigarh city. The HVAC company has many years of experience in this industry. The company has well-experienced service technicians to handle smaller capacity to larger capacity air conditioner services. The company provides AC installation, repair services for all brands. Bansal AC Services and Repair team technicians have master the skill of repair the AC and diagnose problems quickly restore your product same. Bansal AC Services and Repair also serves Chandigarh and the surrounding cities.

Address: Shop Number 108c, Sector 41D, Badheri, Chandigarh, 160036

Mob:090418 50685

Website: N/A

How two boys with burning desire from Bihar, started EPIC HOME SERVICE and made life simpler for people

Let’s begin with the two young and enthusiastic entrepreneurs, Manish Kumar(CEO) and Nishant Kumar(CTO) from Epic Home Service having the lead from Chandigarh

How Epic Home Service Started and Journey ahead?

Back in the year 2017, Manish kumar who was in his first year of Engineering college always wanted to start his own business which was his all-time dream. He had the idea of his business for a very long time, but he was waiting for the right time, to begin with. He dropped his college and started to work on his business idea and executed it on the 10th of April, 2017 which was a home service-based startup named EPIC VILA. 

Initially, this business was mostly running on offline mode. Gradually when it started growing we wanted to make it available in online mode and it was a bit tough to manage the business now. So after 1 year, this company has two major people. Nishant Kumar is a well-learned coder and very good at managing teams.

Nishant Kumar has a dream of becoming an entrepreneur and also wants to run a start-up company. He was in the 3rd year of his college when manish called him and told him about his start-up. He was preparing for his placement at that time and suddenly after the idea of a start-up, he was like “ this is what I want” and at a sudden time without thinking of any kind of trouble joined the business.

The main time for testing your knowledge is when you got the idea to perform your knowledge on a practical basis. And this was the correct time for me to explore and test my knowledge on a practical basis. Later on, they did all the work together, either it was booking technicians or any kind of software bug fix. Now we can proudly say we are running a startup, and we have now a market brand named EPIC HOME SERVICE.

You must be thinking why there are two companies name well, it was all started with the company named EPIC VILA but, in the year 2021 they decided to make some changes as the name was 

About Epic Home Service?

EPIC HOME SERVICE is a platform that provides Home repair & maintenance services like electrician, plumber, ac repair, washing machine repair, Painter, interior designing, and many more. They only allow skilled and experienced professionals to connect with them. They generally focus their service rates to be affordable as it will be convenient for the customers to book their required services. 

Jaguza Livestock management System, thriving through the COVID-19 Pandemic.

We talked to Christine Kihunde Kiiza a co-founder of Jaguza Tech U Ltd. about a system that helps farmers with their problems, especially those who are socially and economically disadvantaged.

First of all, how are you and your family doing in these COVID-19 times?

Me and my family are doing well. It was of course not easy at the beginning of the pandemic, but now by God’s grace we have learnt to manage it. Everybody in the family is aware of the virus and is very conscious to observe the SOPs set by our Ministry of Health.

Tell us about you, your career, how you founded or joined this company.

I am Christine Kihunde Kiiza, co-founder @ Jaguza Tech U Ltd, a married, God-fearing lady, hardworking and open-minded, love learning and venturing into new things.


Professionally, I am an Accountant, I joined Afrosoft IT Solutions Ltd which at the time was working on Jaguza Livestock App as an Administrator/ Accountant. During the course of business, I got interested in innovation later became a Co-founder, and later registered it as an independent company.

Many people in Africa, especially in Uganda, own at least a cow, goat, chicken, or pig whereby many have made it their livelihood amidst various challenges such as disease outbreaks, market & veterinary service inaccessibility, and much more.

Therefore, I believe that with the adoption of the Jaguza Livestock System many farmers shall have improved lives once adopted. I was privileged to participate in the CTA Pitch AgriHack Competitions 2019 that was held in Accra Ghana and emerged the best prize in the mature stage category in the whole of Africa. Since then, I have been part of many livestock programs geared at digitalizing Agriculture.

How does your company innovate?

Jaguza Tech U Ltd innovates by employing an online and offline livestock management system that is focused on empowering livestock production to strengthen food security using Machine learning, the Internet of things, and Big Data which we simplify call Jaguza (to mean Celebration in Luganda language).

We employ Jaguza livestock mobile app (both Android and iOS) that is in seven different languages (English, French, Spanish, Portuguese, Swahili, Luganda, and Runyakitara) to help a wide range of farmers to ably read and use the application in a language of their choice.

The app has very interesting modules that help farmers access our services in real-time. It has a market module where farmers can view real-time market prices for livestock products and farm equipment. They too can open up a product store, upload and sell their products.

The Jaguza livestock app avails farming tips for all livestock, disease information and a self-diagnosis module where a farmer enters signs and symptoms observed on an animal and the app gives the likely disease plus reference to our online vets that can handle the problem.
There is no need to be caught unaware of the climate. Our app gives farmers a 17days weather update to help them plan ahead of unfavorable weather. The “My farm” module is where a farm owner can register all his animals, farm activities, expenses, and income at all stages of production.

As Jaguza, we understand that many farmers in rural areas do not have smartphones or access to the internet. Therefore, we also have USSD code and SMS platforms where farmers can access our services. Our farm record management system is also offline to help rural farmers keep their records which will later be synced to our servers when they the access internet.

Under IoT, we employ sensor technology that uses Machine Learning and Data Science to generate algorithms that we use to detect diseases in animals 48 hours before they manifest using parameters of temperature, heart rate, breathing, and stress levels.

We also use drone technology on farms with big herds of cattle to monitor cattle movement and solar GPS to track animals around the farm. This has helped many of our client farmers to curb down the problem of cattle rustling.

How did your customer relationship management evolve? Do you use any specific tools to be efficient?

Previously, our mode of connecting with our potential customers was through workshops and training which we would later make follow-up visits on their farms.

Using technology, We managed to develop and modify our website where we publish useful information such as farming tips, farm products, and equipment available for sale as well as our upcoming events. Our website has a Fan base module that is able to track the number of viewerships across different countries around the globe, on a daily basis

Through our Jaguza livestock App, farmers are also able to access new farming tips, disease information, weather updates and self-diagnose their animals.

They are also able to directly connect to our subscribed online veterinary doctors and extension workers in their locality through a phone call, chatting, text message, emails, or video conferencing for accurate evidenced reporting and medical assistance.

During the Pandemic, we received an overwhelming number of calls from clients who wanted our published farm products and equipment, advice on how to handle the farms amidst the COVID-19 lockdown. This drove us to form a customer care center to handle the calls and also revert as soon as possible. This has seen us reach many farmers, but also increase our clientele through the good services rendered to them. Satisfied customers are able to recommend others to Jaguza.

Your final thoughts.

The world has gone digital and soon every sector will be digitalized. Through technology, as Jaguza we believe that Quality service delivery is enhanced and therefore competitive products on the global market.

We see this as a dream come true for many livestock farmers as our system is able to track the health of an individual animal from arrival to the removal on the farm hence create confidence in the quality of meat produced.

Your Website: https://jaguzafarm.com/

जैविक युद्ध

अंततः ब्राजील ने आरोप लगा ट्रम्प के दावों पर मुहर लगा ही दी कि यह महामारी प्राकृतिक नहीं, बायोलॉजिकल वार फेयर है और यह उसी देश ने छेड़ा है जिसकी इकोनोमी सबसे फायदे में है।

पहली वेव में ही जापान के नोबेल प्राइज विजेता वायरोलॉजिस्ट ने भी कहा था यह मानव निर्मित वायरस है।

2019 तक लगातार तीन वर्ष से चीन की जीडीपी नीचे गिर रही थी लेकिन महामारी आने के बाद उसकी जीडीपी तेजी से उछाल आया और अब तक उसमें 70% ग्रोथ हो चुका है जबकि पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था का बहुत बड़ा हिस्सा चीनी वायरस से लड़ने में खर्च हो रही है।

एक रिपोर्ट के अनुसार चीन में प्री पैंडेमिक वैक्सीन का रिसर्च चल रहा था, इसी क्रम में कुछ अनपेक्षित हुआ और वायरस बुहान(चीन) में ही फैल गया।इटली चीनी भाई भाई के चक्कर मे इटली बर्बाद हो गया।

दूसरी वेव के प्रति भारत कीअदूरदर्शिता की ही तरह अमेरिका ने पहली वेव में इसे हल्के में लिया और चीन की योजना बिना मेहनत सफल हो गयी।अमेरिका जैसा देश रुक गया और लाखों अपने नागरिकों की मौतों का गवाह बना।

तमाशा देखिए कि इसके फैलने के तुरंत बाद चीन का वैक्सीन बाजार में आ गया। दुनियाँ हैरान रह गयी कि अभी तो वायरस का विश्लेषण भी न शुरू हुआ था और वैज्ञानिक वैक्सीन पर रिसर्च ही कर रहे थे और चीन ने वैक्सीन बेचना भी शुरू कर दिया। चीनी वामपंथी दान पूण्य में विश्वास नहीं करते तो चीन ने भी कई ट्रिलियन डॉलर के वैक्सीन बेच डाले हैं।

चीन ने सबसे पहले वुहान में लॉकडाउन लगाया था तो यूएस हैरान था कि चीन को कैसे पता की लॉकडाउन लगाने से करोना खत्म हो सकता है। उसी लॉकडाउन में चीन ने सभी को टीका लगा डाले थे और कुछ ही महीने में पूरे चीन को टीका लग गया। चीन ने अपने लोगों में पहले ही टीका लगा बचाव भी कर लिया और माल भी बना लिया।

भारत ने भी पहले फेज में पूरा लॉकडाउन किया धीरे धीरे करोना खत्म होने लगा। फरवरी 2021 तक करोना लगभग समाप्त की ओर अग्रसर था। तब तक किसान आंदोलन के जरिये दिल्ली में ब्रिटेन कनाडा जैसे देशों से वायरस म्यूटेशन आ गए लेकिन यह घातक तब हुआ जब इन जगहों के वायरस के साथ भारत में मौजूद चाइनीस वायरस का मिलन हो गया।

आमजन को वैक्सीन न लगवाने के षणयंत्र सफल हो ही चुका था। कुछ उदासीनता की वजह से भारत में इसका विस्तार सुनामी की तरह हुआ। कोई भी सरकार इस तेजी के फैलाव के लिए तैयार नहीं थी और पस्त हो गयी।

चीन की एक ही कंपनी ब्राजील और तुर्की में वैक्सीन सप्लाई कर रही थी। तुर्की में इसकी एफिशियंसी 91.5% तो ब्राजील में सिर्फ 50%।

भारत में कहा गया कि करोना बंगाल चुनाव कुंभ के कारण फैला तो ब्राजील में यह क्यों उछाल मार रहा है??

चीन के साथ जिन देशों के रिश्ते अच्छे थे वहाँ पर उनकी वैक्सीन ज्यादा कारगर थी। चीन का 70% जीडीपी बढ़ चुका है और अब वह अर्थव्यवस्था में शीर्ष पर पहुँचने वाला है।

ड्रग माफिया फाइजर का भी पिछले तिमाही के फायदा देख लीजिए आँखे फट के जमीन पर गिर जाएंगी।खैर, खोजेंगे तो अमेरिकी ड्रग माफिया फाइजर का कनेक्शन बुहान से भी मिलेगा।

फिलहाल भारत को अपने लिए लड़ना है और मोदी के साथ कदम से कदम मिला कर लड़ना है क्योंकि लड़ भी वही रहे हैं और भारतीयों को बचाने की इच्छाशक्ति भी उन्ही के पास है। आज मोदी सबसे बड़े रक्षक सिद्ध हो न हो लेकिन भक्षक तो नहीं ही है।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के स्वयंसेवको की तरह काँग्रेज़ सेवा दल, समाजवादियों व कम्युनिष्टों के भी सेवार्थी सड़कों पर अपनी प्राण की परवाह किये बिना कहीं दिखाई देते तो हम भी मानते की देश का मोदी विरोधी विपक्ष जनता के लिए कोई सद्भावना रखता है और उनके जीवन रक्षा के लिए सिर्फ गाल न बजाता बल्कि धरातल पर भी कुछ करता है।

प्रेरक फिल्मों की बात की जाये तो हाल में एक “अनब्रोकन” नाम की फिल्म आई थी

एंजेलीना जोली द्वारा निर्देशित इस 2014 में आई फिल्म की कहानी इसी नाम के एक उपन्यास पर आधारित है। सत्य घटना पर बनी इस फिल्म की कहानी द्वित्तीय विश्व युद्ध के समय की है जब अप्रैल 1943 में लुइ नाम के एक लेफ्टिनेंट का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है। अपने साथियों को बचाने के लिए बचाव दल भेजा जाता है मगर वो एक ऐसा जहाज इस्तेमाल कर रहे थे जिसके पुर्जे खोलकर दुसरे जहाजों को ठीक किया जा रहा होता है। जाहिर है ये जहाज भी दुर्घटनाग्रस्त होता है और लुइ के साथ फिल और मैक नाम के उसके सिर्फ दो साथी बच पाते हैं।

फिल्म थोड़ा सा फ़्लैश बेक में भी जाती है और दिखाया जाता है कि लुइ विद्रोही स्वभाव का था। शराब पीने, चोरी जैसी बदमाशियां करता रहता था। इटालियन होने के कारण कई लोग उसे मारते पीटते भी रहते थे। थोड़े ही दिनों में उसके भाई पीटर को दिख जाता है कि वो कितना तेज दौड़ता है, और वो उसे प्रशिक्षित करने लगता है। धीरे-धीरे लुइ अपना अनुशासन बढ़ाता है और लम्बी दूरी के धावक के रूप में उसे ख्याति मिलने लगती है। उसे 1936 के ओलंपिक में आठवां स्थान मिला था और पांच हजार मीटर की दूरी में उसने नया कीर्तिमान भी बनाया था।

वापस जब फिल्म 1943 पर आती है तो पता चलता है कि कई दिनों तक बहने के बाद सत्ताईसवें दिन उनपर एक जापानी हवाई जहाज की नजर पड़ जाती है। वो लोग गोलियां चलाते हैं लेकिन लुइ और उसके साथी बच जाते हैं। कुछ दिनों बाद उनके एक साथी मैक की मौत हो जाती है और आखिरकार सैंतालिस दिन बाद जापानी नाविक फिल और लुइ को पकड़ लेते हैं। उनसे अमरीकी हवाई जहाजों के बारे में पूछताछ की जाती है। दोनों को अलग-अलग बंदियों के कैंप में भेजा जाता है।

यहाँ एक अलग ही मुसीबत लुइ का इन्तजार कर रही थी। इस बंदी कैंप का प्रमुख जापानी कुछ ज्यादा ही क्रूर था। पिटाई इत्यादि से लुइ का रोज ही सामना होता है। दो साल बाद जब उस जेलर का तबादला होता है तो लुइ को थोड़ी राहत मिली लेकिन थोड़े ही दिन बाद जब टोक्यो पर बमबारी हुई तो उन सभी को दूसरे कैंप में भेजा जाता है। यहाँ उसका जेलर फिर से वही जापानी था जो अब पदोन्नति पाकर और ऊँचा अधिकारी हो गया था। यहाँ लुइ को कोयला ढोने के काम में लगाया गया था। एक दिन जब वो मजदूरी करते, थोड़ा ठहर जाता है तो सजा के तौर पर उसे एक भारी लट्ठ सर के ऊपर उठाये खड़े रहने की सजा मिलती है।

आदेश था कि अगर लट्ठ गिरे तो लुइ को गोली मार दी जाए। लेकिन लुइ थकने टूटने के बाद भी न तो लट्ठ गिरने देता है ना ही जेलर के सामने नजरें झुकाता है। इससे नाराज जेलर उसकी जमकर धुनाई कर देता है। जब अमरीकी जहाज जापान पर बमबारी करने लगते हैं तो सबको समझ में आता है कि युद्ध समाप्त हो गया और जापान हार चुका है। लुइ उस जेलर को ढूँढने की कोशिश करता है लेकिन तबतक वो भाग चुका था। वो बैठकर जेलर की बचपन की तस्वीर को काफी देर तक देखता है, जिसमें जेलर अपने पिता के साथ खड़ा नजर आता है। फिल्म के अंत में लुइ को वापस अमेरिका भेज दिया जाता है जहाँ उतरते ही वो जमीन को चूमता है।

फिल्म के अंत में असली लुइ की तस्वीरें दिखाते हैं। ये भी बताया जाता है कि वो जेलर लम्बे समय तक फरार रहा। लुइ ने बाद में इसाई रिलिजन अपना लिया था।

ये फिल्म इसलिए देखी जानी चाहिए क्योंकि ये हाल के दौर में बनी सबसे प्रेरक फिल्मों में से एक है। आखरी दृश्य का लुइ जब जमीन चूमता है तो पता चलता है कि उसने सभी मुसीबतों को झेलकर भी जीने की उम्मीद नहीं छोड़ी थी। भारी लट्ठ उठाये जेलर के सामने नजरें ना झुकाने को तैयार लुइ किसी को भी एक बार फिर से उठ खड़े होने के लिए प्रेरित कर सकता है। अब जैसा कि जाहिर है, हम फिल्म की कहानी के जरिये सिर्फ फिल्म तो देखने कह नहीं रहे होंगे। हमने धोखे से आपको फिर से भगवद्गीता के कुछ श्लोक पढ़ा डाले हैं।

यहाँ जो सबसे पहले ध्यान देने लायक बात है वो ये है कि जब प्रशांत महासागर में नीचे शार्क और ऊपर जापानी हवाईजहाजों के बीच लुइ फंसा हुआ तो तो उसे हाथ पैर मारने किसने कहा था? चुपचाप मर क्यों नहीं गया? जान बचाने और हालात का मुकाबला करने किसी ने नहीं कहा। समुद्र से बच भी गया तो जापानी जेल में जाकर नहीं मरेगा इसकी भी किसी ने गारंटी नहीं ली थी। वो सिर्फ अपना कर्म कर रहा था। एक-दो, पांच-दस दिन नहीं, 27वें दिन एक साथी के गुजरने पर नहीं, 47वें दिन पकड़े जाने पर भी वो अपना कर्म बंद ही नहीं करता! उसके 47वें दिन पर भगवद्गीता के दूसरे अध्याय का 47वां श्लोक याद कर लीजिये –

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन। मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि।।2.47

ये इतना प्रसिद्ध है कि इसका मतलब अलग से बताने की भी जरूरत नहीं, फिर भी, यहाँ कहा गया है कि आपका अधिकार सिर्फ आपके कर्म पर है, उनके फलों पर आपका कोई अधिकार नहीं होता। कोई फायदा होगा, हो रहा है या नहीं, आगे कभी होगा, इन बातों की परवाह किये बिना लुइ कर्म किये जा रहा था। श्लोक के बिलकुल दूसरे हिस्से जैसा वो कभी अकर्मण्य होने में आसक्ति नहीं दिखाता। इस एक श्लोक से जुड़े हुए कई दूसरे श्लोक भी हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आज के दौर के हिसाब से देखें, या जिस समय इसे कहा गया होगा, तब के हिसाब से, कर्म करते जाना और फल की आशा ही ना करना सरल तो नहीं।

अभी के दौर के हिसाब से इसे मेडिकल प्रोफेशन, यानि चिकित्सकीय काम से जोड़कर देख सकते हैं। एक डॉक्टर, या एक नर्स, वार्डबॉय और ऐसे कई कर्मचारी जो अपने काम से ये अपेक्षा कर रहे हैं कि उनके प्रयासों से किसी का जीवन बच जायेगा, उनपर क्या बीतती होगी जब उनके किसी मरीज को वो बचा नहीं पाते होंगे?

यस्य सर्वे समारम्भाः कामसङ्कल्पवर्जिताः। ज्ञानाग्निदग्धकर्माणं तमाहुः पण्डितं बुधाः।।4.19

अर्थात जिसके सम्पूर्ण कर्मों के आरम्भ संकल्प और कामना से रहित हैं तथा जिसके सम्पूर्ण कर्म ज्ञानरूपी अग्निसे जल गये हैं, उसको ज्ञानिजन भी पण्डित (बुद्धिमान्) कहते हैं। यानी कार्य शुरू करने से पहले कोई संकल्प भी नहीं और कार्य करते हुए किसी फल की कामना भी नहीं! ये श्लोक इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यहाँ कामना और संकल्प दोनों शब्द एक साथ आये हैं। छठे अध्याय का चौथा श्लोक देखेंगे तो केवल संकल्प का और दूसरे अध्याय के पचपनवें श्लोक में केवल कामना का त्याग करने कहा गया है।

चिकित्सकों के लिए कामना तो यही होती होगी कि हरेक मरीज को बचा लें, लेकिन अपने अनुभव के कारण उन्हें अच्छी तरह पता होता है कि ये हर बार संभव नहीं होगा, इसलिए बचा लेने जैसा कोई संकल्प तो नहीं ही करते होंगे। क्या होगा अगर करने लगें? फिर तो सौ जीवन बचाने के बाद भी जो एक नहीं बचा उसके लिए अवसाद में जायेंगे। या फिर संकल्प किया और एक को बचा लिया तो जिनका जीवन नहीं बचा पाए, वहाँ से कुछ सीखेंगे नहीं और स्वयं को सचमुच ईश्वर समझने वाले अहंकारी होने लगेंगे।

ये कोई आसान काम नहीं होता इसलिए इसे बार-बार दोहराया गया है। छठे अध्याय के चौबीसवें श्लोक में कामना और संकल्प फिर से एक श्लोक में मिलते हैं। यहाँ दोनों को रोकने का मार्ग बताया गया है –

सङ्कल्पप्रभवान्कामांस्त्यक्त्वा सर्वानशेषतः।

मनसैवेन्द्रियग्रामं विनियम्य समन्ततः।।6.24

शनैः शनैरुपरमेद् बुद्ध्या धृतिगृहीतया।

आत्मसंस्थं मनः कृत्वा न किञ्चिदपि चिन्तयेत्।।6.25

अर्थात, संकल्प से उत्पन्न होने वाली सम्पूर्ण कामनाओं का सर्वथा त्याग करके और मन से ही इन्द्रिय-समूह को सभी ओर से हटाकर, धीरे-धीरे धैर्ययुक्त बुद्धि के द्वारा उपरामता (शांति) को प्राप्त हो। मन को आत्मा में स्थित करके फिर अन्य कुछ भी चिन्तन न करे। ये कुछ वैसी स्थिति है जैसे में अस्पताल के कोविड वार्ड के कर्मचारी होंगे। जितनी देर काम पर हैं, उतनी देर उनमें से किसे याद रहता होगा कि उनके पास कोई घर-परिवार, पत्नी-बच्चे भी हैं? कुछ पुराने वीडियो में तो पीपीई किट उतरने पर पसीने से जैसी हालत दिखी थी, लगता नहीं कि उनके पास कोई शरीर है, इसकी याद भी उन्हें रहती होगी!

फिल्म का लुइ भी ऐसा ही अकेला है, नितांत अकेला। मैक और फिल जैसे उसके साथी भी छूट जाते हैं और परिस्थितियों के सामने वो अकेला ही डटकर खड़ा होता है। जीवन में जिन मोर्चों को कठिन कहा जाता है, वहाँ आप अपने को अकेला ही पाएंगे। ये कुछ ऐसा ही है जैसे पांडवों के पास पूरी सेना तो थी, लेकिन वो बीच मैदान में जाकर अकेला रथ खड़ा करवा लेता है! वो भी ऐसी ही जगह पर था जहाँ उसके साथ केवल भगवान होते हैं। अब वापस हमलोग दूसरे अध्याय के 47वें श्लोक पर चलें जहाँ से बात शुरू की थी।

यहाँ “कर्मणि” पद में एकवचन है। ऐसा इसलिए क्योंकि मनुष्य पशुओं की तरह केवल पूर्वजन्म के कर्मफल नहीं भोगता। हमेशा तो नहीं लेकिन अक्सर मनुष्य के पास इस जन्म में नए कर्म करने की, चुनाव की स्वतंत्रता होती है। यहाँ अर्जुन के पास चुनाव की स्वतंत्रता नहीं है। वो पूर्वजन्म के कर्मफल का केवल भोग या नए कर्मों का चुनाव नहीं कर सकता। उसके सर पर युद्ध है और उसके पास एक ही विकल्प है। कोई दान-पुण्य, भजन-सेवा जैसे काम वो रोजमर्रा के कार्यों के साथ नहीं कर पायेगा। चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोगों या उनके परिवारों जैसी ही हालत है। युद्ध जारी है और एक दिन किसी प्रियजन के बिछुड़ने का अफ़सोस करने का समय भी नहीं है। उठिए, खड़े हो जाइये क्योंकि लड़ना ही होगा।

बिलकुल फिल्म के लुइ की तरह समुद्र में हैं तो वहाँ हाथ पैर मारने होंगे, और जेल में हैं तो जेलर से मुकाबला करना होगा और इसका कभी कोई फल मिलेगा या नहीं, मिलेगा तो क्या मिलेगा, इसका कुछ भी पता नहीं। इसलिए उसकी आशा भी नहीं करनी। बाकी ये जो अनब्रेकेबल के बहाने पढ़ा डाला है वो नर्सरी स्तर का है और पीएचडी के लिए आपको खुद पढ़ना होगा, ये तो याद ही होगा!

What is written on the Paper?

One day, Thomas Edison came home and gave a paper to his mother. He told her, “My teacher gave me this paper and told me to give it only to you.” Edison enquired from her, “What is written on the Paper?”

His mother’s eyes were full of tears as she read the letter out loud to her beloved child, ” Your son is a genius. The school is too small for him& doesn’t have enough good teachers to train him. Please teach him yourself at home.”

Many many years after he became the greatest inventor of the century and Edison’s mother had died , he was looking through some old family papers and he saw a folded paper in the corner. He opened it and on it was written, ‘Your son is addled(Mentally ill), we can’t have him in the school anymore.’

Edison on reading that cried for hours and then he wrote in his diary, ‘ Thomas Alva Edison was an Addled child that, by a loving and hero mother, became the genius of the century.’

MOTHER

A word that means the world.
My mom has made me laugh, wiped my tears,
Hugged me tight,
Watched me succeed,
Seen me fall,
Cheered me on,
Kept me going strong & Drove me a little crazy at times,
But mothers are a promise that you will have a friend forever!
I Have one! But she is in heaven now. I daily miss her
May her blessings always remain.
Happy Mothers Day!
Stay blessed forever.

अभी संकट दूर नहीं हुआ है, अभी भी बहुत कुछ किया जा सकता है.

जब टाईटेनिक जहाज समुद्र में डूब रहा था तो उसके आसपास तीन ऐसे जहाज़ मौजूद थे जो टाईटेनिक के मुसाफिरों को बचा सकते थे.

सबसे करीब जो जहाज़ मौजूद था उसका नाम था सैमसन, और वो हादसे के समय टाईटेनिक से सिर्फ सात मील की दूरी पर था.

पहला जहाज़

सैमसन के कैप्टन ने न सिर्फ टाईटेनिक की ओर से फायर किए गए सफेद शोले(जो कि बेहद खतरे की हालत में हवा में फायर किये जाते हैं) देखे थे, बल्कि टाईटेनिक के मुसाफिरों के चिल्लाने के आवाज़ को भी सुना भी था.

लेकिन सैमसन के लोग ग़ैरकानूनी तौर पर बेशक़ीमती समुद्री जीवों का शिकार कर रहे थे और नहीं चाहते थे कि पकड़े जाएँ. वे अपने जहाज़ को दूसरी तरफ़ मोड़ कर चले गए.

यह जहाज़ हम में से उन लोगों की तरह है जो अपनी गुनाहों भरी ज़िन्दगी में इतने मग़न हो जाते हैं कि उनके अंदर से इन्सानियत ख़त्म हो जाती है.

दूसरा जहाज़

जो करीब मौजूद था उसका नाम था कैलीफोर्नियन, जो हादसे के समय टाईटेनिक से चौदह मील दूर था.

उस जहाज़ के कैप्टन ने भी टाईटेनिक की ओर से निकल रहे सफेद शोले अपनी आँखों से देखे.

क्योंकि टाईटेनिक उस वक्त बर्फ़ की चट्टानों से घिरा हुआ था और उसे उन चट्टानों के चक्कर काट कर जाना पड़ता, इसलिए वो कैप्टन सुबह होने का इन्तजार करने लगा.

जब सुबह वो टाईटेनिक की लोकेशन पर पहुँचा तो टाईटेनिक को समुद्र की तह में पहुँचे हुए चार घंटे बीत चुके थे और टाईटेनिक के कैप्टन एडवर्ड स्मिथ समेत उसमें सवार 1569 यात्री डूब चुके थे.

यह जहाज़ हम लोगों में से उनकी तरह है, जो किसी की मदद करने के लिए अपनी सहूलियत और आसानी देखते हैं, और अगर हालात सही न हों तो अपना फ़र्ज़ भूल जाते हैं.

तीसरा जहाज़

कारपेथिया, जो टाईटेनिक से 68 मील दूर था, उस जहाज़ के कैप्टन ने रेडियो पर टाईटेनिक के मुसाफ़िरों की चीख पुकार सुनी, जबकि उसका जहाज़ दूसरी तरफ़ जा रहा था. उसने तत्काल अपने जहाज़ का रुख मोड़ा और बर्फ़ की चट्टानों और खतरनाक़ मौसम की परवाह किए बगैर मदद के लिए रवाना हो गया.

हालाँकि वो दूर होने की वजह से टाईटेनिक के डूबने के दो घण्टे बाद लोकेशन पर पहुँच सका, लेकिन यही वो जहाज़ था, जिसने लाइफ बोट्स की मदद से टाईटेनिक के बाकी 710 मुसाफ़िरों को ज़िन्दा बचाया था और उन्हें हिफाज़त के साथ न्यूयार्क पहुँचा दिया था.

उस जहाज़ के कैप्टन “आर्थर रोसट्रन” को ब्रिटेन की तारीख के चंद बहादुर कैप्टनों में शुमार किया जाता है, और उनको कई सामाजिक और सरकारी अवार्ड्स से भी नवाजा गया था.

हमारी ज़िन्दगी में हमेशा मुश्किलें रहती हैं, चुनौतियाँ रहती हैं, लेकिन जो इन मुश्किल और चुनौतियों का सामना करते हुए भी इन्सानियत की भलाई के लिए कुछ कर जाए वही सच्चा इन्सान है.

आज के माहौल में जिस किसी ने भी अपनी सामर्थ्य अनुसार किसी की सहायता की है, समझिए विश्व रूपी टाइटैनिक के डूबने से पहले उसने ज़िन्दगियाँ बचाने का पुण्य प्राप्त किया है.

अभी संकट दूर नहीं हुआ है, अभी भी बहुत कुछ किया जा सकता है.

आइए
मिलजुल कर
इस मुश्किल घड़ी में
एक दूसरे की सहायता करें.
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

इस मजदूरी का हिसाब भगवान रखते हैं

अस्पताल में एक पेशेंट का केस आया ।मरीज बेहद सीरियस था । अस्पताल के मालिक डॉक्टर ने तत्काल खुद जाकर आईसीयू में केस की जांच की। दो-तीन घंटे के ओपरेशन के बाद डॉक्टर बाहर आया और अपने स्टाफ को कहा कि इस व्यक्ति को किसी प्रकार की कमी या तकलीफ ना हो। और उससे इलाज व दवा के पैसे न लेने के लिए भी कहा ।
मरीज तकरीबन 15 दिन तक मरीज अस्पताल में रहा।

जब बिल्कुल ठीक हो गया और उसको डिस्चार्ज करने का दिन आया तो उस मरीज का तकरीबन ढाई लाख रुपये का बिल अस्पताल के मालिक और डॉक्टर की टेबल पर आया। डॉक्टर ने अपने अकाउंट मैनेजर को बुला करके कहा …
“इस व्यक्ति से एक पैसा भी नहीं लेना है। ऐसा करो तुम उस मरीज को लेकर मेरे चेंबर में आओ।”मरीज व्हीलचेयर पर चेंबर में लाया गया।डॉक्टर ने मरीज से पूछा – “भाई ! मुझे पहचानते हो?”मरीज ने कहा “लगता तो है कि मैंने आपको कहीं देखा है।”

डॉक्टर ने कहा …”याद करो, अंदाजन दो साल पहले सूर्यास्त के समय शहर से दूर उस जंगल में तुमने एक गाड़ी ठीक की थी। उस रोज मैं परिवार सहित पिकनिक मनाकर लौट रहा था कि अचानक कार में से धुआं निकलने लगा और गाड़ी बंद हो गई। कार एक तरफ खड़ी कर हम लोगों ने चालू करने की कोशिश की, परंतु कार चालू नहीं हुई। अंधेरा थोड़ा-थोड़ा घिरने लगा था। चारों और जंगल और सुनसान था। परिवार के हर सदस्य के चेहरे पर चिंता और भय की लकीरें दिखने लगी थी और सब भगवान से प्रार्थना कर रहे थे कि कोई मदद मिल जाए।”थोड़ी ही देर में चमत्कार हुआ। बाइक के ऊपर तुम आते दिखाई पड़े ।हम सब ने दया की नजर से हाथ ऊंचा करके तुमको रुकने का इशारा किया। तुमने बाईक खड़ी कर के हमारी परेशानी का कारण पूछा। तुमने कार का बोनट खोलकर चेक किया और कुछ ही क्षणों में कार चालू कर दी।”हम सबके चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गई। हमको ऐसा लगा कि जैसे भगवान ने आपको हमारे पास भेजा है क्योंकि उस सुनसान जंगल में रात गुजारने के ख्याल मात्र से ही हमारे रोगंटे खड़े हो रहे थे। तुमने मुझे बताया था कि तुम एक गैराज चलाते हो ।”मैंने तुम्हारा आभार जताते हुए कहा था कि रुपए पास होते हुए भी ऐसी मुश्किल समय में मदद नहीं मिलती। तुमने ऐसे कठिन समय में हमारी मदद की, इस मदद की कोई कीमत नहीं है, यह अमूल्य है।परंतु फिर भी मैं पूछना चाहता हूँ कि आपको कितने पैसे दूं ?”

उस समय तुमने मेरे आगे हाथ जोड़कर जो शब्द कहे थे, वह शब्द मेरे जीवन की प्रेरणा बन गये हैं।”तुमने कहा था कि “मेरा नियम और सिद्धांत है कि मैं मुश्किल में पड़े व्यक्ति की मदद के बदले कभी कुछ नहीं लेता। मेरी इस मजदूरी का हिसाब भगवान् रखते हैं। “उसी दिन मैंने सोचा कि जब एक सामान्य आय का व्यक्ति इस प्रकार के उच्च विचार रख सकता है, और उनका संकल्प पूर्वक पालन कर सकता है, तो मैं क्यों नहीं कर सकता। और मैंने भी अपने जीवन में यही संकल्प ले लिया है। दो साल हो गए है,मुझे कभी कोई कमी नहीं पड़ी, अपेक्षा पहले से भी अधिक मिल रहा है।”
“यह अस्पताल मेरा है।तुम यहां मेरे मेहमान हो और तुम्हारे ही बताए हुए नियम के अनुसार मैं तुमसे कुछ भी नहीं ले सकता।”

“ये तो भगवान् की कृपा है कि उसने मुझे ऐसी प्रेरणा देने वाले व्यक्ति की सेवा करने का मौका मुझे दिया।”ऊपर वाले ने तुम्हारी मजदूरी का हिसाब रखा और वो हिसाब आज उसने चुका दिया। मेरी मजदूरी का हिसाब भी ऊपर वाला रखेगा और कभी जब मुझे जरूरत होगी, वो जरूर चुका देगा।”डॉक्टर ने मरीज से कहा ….

“तुम आराम से घर जाओ, और कभी भी कोई तकलीफ हो तो बिना संकोच के मेरे पास आ सकते हो।”मरीज ने जाते हुए चेंबर में रखी भगवान् कृष्ण की तस्वीर के सामने हाथ जोड़कर कहा कि….
“हे प्रभु ! आपने आज मेरे कर्म का पूरा हिसाब ब्याज समेत चुका दिया।”
सदैव याद रखें कि आपके द्वारा किये गए कर्म आपके पास लौट कर आते है । और वो भी ब्याज समेत ।वर्तमान में कठिन समय चल रहा है । जितना हो सकता है लोगों की मदद करें । आपका हिसाब ब्याज समेत वापस आएगा ।

The youngest person to travel the whole country: Lexie Alford

Who doesn’t love traveling? Apart from work and frustrating week work everyone wants a
good holiday. Either it is a family holiday or a solo trip or a couple of weekends. There is a
quote “open classes can teach you more than your usual classes.” This means you can gain
knowledge in your classes or your usual lectures but the knowledge you gain by your
experience or the knowledge you gain with nature is always better. In other words, we can
say nature teaches more than bookish knowledge.

Does money matter in traveling?

No, many of you don’t agree with this. But this is a fact that money doesn’t matter in
traveling. The only thing that matters is your courage and daring. However, many travel
influencers on the internet show off their money and plan their trips in a very expensive way.
But again, I will say there are more in numbers who say money doesn’t matter in traveling.
One of them is Lexie Alford. The youngest person to travel to the whole country. Apart from
her, there are many more who agree to this “money doesn’t matter”. So, many of you have a
question about how they still manage to travel without spending too much money.

Epic Web Servicehttps://epicwebservice.com/

There are many ways you can cut your expense in planning a trip. You can use the “couch
surfing” application, which helps travelers to stay in local homes for free. They have some
terms and conditions but they will let you live in their houses for free. You can share your
experiences and make new friends there and in return, they will let you stay free of cost.
Moreover, you can also volunteer for some houses. You get a free home you have to do one
thing you have to make your food and help the house owner with their work and in place of
this work, you will get a free homestay. But, what Lexie Alford says about her journey
through the globe? What kind of problems does she face during her adventure journey to the
whole world?

Who is Lexie Alford?

Lexie Alford is a YouTuber, blogger, and photographer who has been recently mentioned in
Guinness World Record. She is the youngest person to visit every single country in the world.
Before discussing her traveling experience Firstly, we will know about her in brief. Who she
is? And how she traveled the whole world?
She was born on 10th August 1998 in California, America. Before turning 21 she had traveled
to 196 countries. Her parents were in the travel and tour business. They use to plan a trip for
people and give them the service of traveling. She got the skills of traveling and bag packing
from them. She uses to follow her parents on different-different trips. From his childhood
days, she has a great knowledge of how to plan trips and tours. And also, she has great
knowledge about how to maintain expenses in traveling and how to plan a budget for cheap
prices. In her teenage she used to travel with her parent and before her 18th birthday she has
already visited 72 countries. In the TED TALK, she mentioned that she uses to collect more
information regarding where she is going and does great research on budget deals.

How she manages her budget?

On Lexie’s website, she has mentioned that she manages her expenses by doing some
freelancing and part-time paid jobs. She has also mentioned that her majority of trips are self-funded. However, some are paid but not all of them are sponsored. One of the major facts about her is she already discussed that she started to save for her dream to travel since she was just 12 years. At the age of 12 maximum of us pass our time by demanding money from our parents for daily usable stuff.

Epic Web Servicehttps://epicwebservice.com/

Her travel journeys?

The journey which she has explained has many adventure stories. Some of them will be
inspiring and some will tell you what the real world seems to be. The world is not what you
see on your social media neither as shown on television. The real world is something mixed
up. You will see many ups and downs. The journey to the world is not like a fairy tale.
What she explained is, you will face many problems sometimes you will feel you are broken.
Even you can’t find hotels according to your wish. You have to manage it. The journey to the
world has been tough. Besides this, you will come to know the world is truly majestic. There
are a lot of happing things which happen in the world. You will make new friends. You will
face problems and make their solutions your own, this will make you more and more strong
from inside. You will come to know you are more capable than what you think of yourself.

The inspiration we should take from Lexie Alford.

When you see or get to know about some great personality like her, we should take lessons
from her and her experiences. The dream of travel around the globe was not easy for her. She
has started early to make it happen, like when she was only 12 years, she started to work.
You have to work hard for your dream to get into reality. Every time you step your foot
outside your home you have to take off your comfort zone aside. You will face many
challenges in the path but you have to rise and fight against them. From her point of view,”
you have to push your limits and you have to make your path to fulfill your dream.”

Startups in India

There аre tyрes оf рeорle whо will tell thаt the first thing yоu need оbserve is hоw yоu саn imрrоve the lives оf рeорle. Аnd they’re аbsоlutely right.  

Beсаuse аlmоst nоbоdy wоuld аррreсiаte а useless рrоduсt оr will suggest thаt рrоduсt tо аnyоne.  

But suрроse yоu hаve develорed sоmething whiсh sоlves а reаl-life рrоblem аnd it аlsо аffeсts the life оf рeорle in а роsitive sense.

First, оf аll,  shift yоur thinking.  Kill the wоrld.  It’s  “tell everyоne”  аррrоасhes like this thаt leаd tо lаunсh strаtegies like the оne аbоve.  Yоu dоn’t need the wоrld tо nоtiсe yоu,  whаt yоu need is just а  well quаlified асtive роtentiаl users аnd thаt аlоne саn сreаte а  huge differenсe.

Аt ijоin, we sрend оur time rарidly designing аnd thinking сreаtive ideаs thаt саn bаng the entire eсоsystem,  аlоng with the сritiсаl thinking we аlsо need tо mаke strаtegiс рlаns fоr the future grоwth оf jоin.  We’ve аlsо blоgged аbоut tорiсs thаt were interesting tо а  сustоmer suрроrt аudienсe,  аnd we wrоte соntent fоr externаl оutlets thаt brоught vаlue tо reаders,  аnd lоаds оf inbоund leаds tо us.

It shоuld don’t be surрrising thаt the mоst vаluаble trаffiс we gоt саme frоm quаlified leаds we hаd аlreаdy nurtured.  But the рrоblem is thаt mоst stаrtuрs wоn’t mаke the effоrt tо build thаt аudienсe until аfter lаunсh.  We knоw,  beсаuse аs  We’ve mentiоned,  We’ve mаde thаt mistаke,  tоо.

Lооk,  We knоw thаt аs аn eаrly-stаge teаm,  the сhаnсes thаt yоu hаve а  full-time соntent рersоn аre nоn-existent.  But the сhаnсes thаt sоmeоne оn yоur teаm hаs а  mоdiсum оf writing сhорs аre рretty dаmn gооd,  аnd getting them tо invest а  соuрle оf hоurs а  week in this exerсise саn раy оff in sраdes when the time соmes.

Аt а lоss fоr whаt tо write аbоut?  Every stаrtuр shоuld knоw hоw their сustоmers think,  аnd knоwing whаt’s interesting tо them is а  mаjоr раrt оf thаt,  аnd it’s аbsоlutely оkаy tо аsk them whаt they’d like tо reаd аbоut frоm yоu.  Emаil them,  survey them,  сhаt with them.  They’ll аррreсiаte it. 

Team ijoin

Get updates about India | Startup | Travel Tips | Technology

Exit mobile version